Human heart structure and function

मानव ह्रदय (Human heart)

ह्रदय (Heart) – मानव का ह्रदय वक्षीय गुहा में, दोनों फुफ्फुसों के बीच अधर तल पर कुछ बाईं ओर स्थित होता है । ह्रदय दो-स्तरीय आवरण ह्दयावरण (Pericardium) से ढ़का रहता है । दोनों आवरणों के मध्य पाया जाने वाला द्रव ह्रदयावरणी द्रव (Pericardial fluid) कहलाता है । यह ह्रदय को बाह्य आघातों से भी बचाता है ।

ह्रदय की बाह्य संरचना (External structure of heart) – यह गुलाबी रंग का शंख के आकार का खोखला एवं मांसल भाग है, जो मनुष्य की मुट्ठी के माप का होता है । इसका वजन 300 ग्राम होता है ।

ह्रदय की आन्तरिक संरचना (Internal structure of heart) – मनुष्य का ह्रदय चार वेश्म (भाग) में बँटा होता है । ऊपर के दो वेश्म आलिन्द (atrium) तथा नीचे के दो वेश्म निलय (ventricle) कहलाते हैं । निलय की दीवारें आलिन्द की दीवारों की अपेक्षा मोटी भित्ति की होती है । प्रत्येक प्रत्येक आलिन्द अपनी ओर के निलय में आलिन्द-निलय छिद्र द्वारा खुलता है । इन छिद्रों में कपाट पाए जाते हैं । बाँए आलिन्द एवं बाएँ निलय के बीच द्विवलनी कपाट (Bicuspid valve) तथा दाएँ आलिन्द एवं दाएँ निलय के बीच त्रिवलनी कपाट (Tricuspid valve) होता है । ये कपाट रक्त को विरूद्ध दिशा में जाने से रोकते हैं । दोनों आलिन्दों के बीच एक पट पाया जाता है जिसे अन्तर आलिन्दीय पट (Inter auriucular septum) कहते हैं । इसी प्रकार दोनों निलयों के बीच का पट अन्तर निलयी पट (Inter ventricular septum) कहलाता है । बाँए आलिन्द से फुफ्फुसीय शिरा (पल्मोनरी वेन) आकर मिलती है तथा दाएँ आलिन्द से महाशिरा आकार मिलती है । बाँए निलय का संबंध अर्द्धचन्द्राकार वाल्व द्वारा महाधमनी से तथा दाएँ निलय का संबंध अर्द्धचन्द्राकार वाल्व द्वारा फुफ्फुसीय महाधमनी से होता है ।

NOTE – फुफ्फुसीय शिरा शुद्ध रूधिर बाएँ आलिन्द में पहुँचाती है । यहाँ से रक्त वाल्व द्वारा बाँए निलय में पहुँचता है और महाधमनी (पृष्ठ महाधमनी) की सहायता से रूधिर बाँए निलय से शरीर के विभिन्न भागो में पहुँचता है ।
शरीर के विभिन्न भागों से अशुद्ध रूधिर महाशिरा (पश्च महाशिरा) की सहायता से दाएँ आलिन्द में पहुँचता है और यहाँ से रूधिर वाल्व द्वारा दाँए निलय में पहुँचता है । दाएँ निलय से अशुद्ध रूधिर फुफ्फुसीय महाधमनी के माध्यम से फुफ्फुस में पहुँचता है जहाँ इसका शुद्धिकरण होता है ।

One thought on “Human heart structure and function

  • December 17, 2020 at 8:42 pm
    Permalink

    Best view i have ever seen !

Comments are closed.

Open chat
1
Hi, How can I help you?