Home

10th class NCERT Science Hindi

       1.   10th class ncert notes in Hindi 

      2.    10th class ncert/cbse all chapter mcq solution

      3.    10th class NCERT Science पाठगत प्रश्नों के हल

     4.     10th class NCERT Science text book question and answer 

 

कक्षा -11 जीव विज्ञान

11th class Biology notes – पढ़ने के लिए क्लिक करें

 

परीक्षाओं की दृष्टि से महत्वपूर्ण टोपिक्स

  1. मेंडल के नियम (प्रभाविता का नियम व स्वतंत्र अपव्यूहन का नियम)
  2. HIV- AIDS
  3. बैक्टिरिया में जनन पार्ट-1
  4. बैक्टिरिया में जनन पार्ट-2  or Sexual Reproduction
  5. सभी कोशिकांगों का  संक्षिप्त विवरण 
  6. मानव शरीर का सामान्य परीचय

 

10th class ncert Science in Hindi

⦁ प्रकाश संश्लेषण- पौधे में सजीव कोशिकाओं (क्लोरोप्लास्ट) के द्वारा प्रकाश ऊर्जा को रासायनिक ऊर्जा में बदलना, प्रकाश संश्लेषण कहलाता है । प्रकाश संश्लेषण की क्रिया पौधे के हरे भागों जैसे पत्ति आदि में होती है ।

इसमें निम्न चरण होते है –

I. क्लोरोफिल (क्लोरोप्लास्ट) द्वारा प्रकाश ऊर्जा को अवशोषित करना ।
II. प्रकाश ऊर्जा को रासायनिक ऊर्जा में रूपांतरित करना तथा जल अणुओं का हाइड्रोजन व ऑक्सीजन में अपघटन करना ।
III. कार्बनडाइऑक्साइड (CO2) का कार्बोहाइड्रेट में अपचयन करना ।

प्रकाश संश्लेषण की समीकरण-

⦁ स्थलीय पौधे प्रकाश संश्लेषण के लिए जल की पूर्ति जड़ों द्वारा मिट्टी में उपस्थित जल के अवशोषण से करते है । इसी के साथ विभिन्न तत्व जैसे नाइट्रोजन , फॉस्फोरस , लोहा तथा मैग्निशियम भी किसी न किसी रूप में लिए जाते है ।

⦁ रंध्र- ये पत्ति की सतह पर उपस्थित होते है । प्रकाश संश्लेषण के लिए गैसों का अधिकांश आदान-प्रदान इन्हीं के द्वारा होता है । लेकिन गैसों का आदान-प्रदान तने, पत्ति व जड़ की सतह से भी होता है ।इन रंध्रों स पर्याप्त मात्रा में जल की हानि भी होती है ।जब प्रकाश संश्लेषण के लिए CO2 की आवश्यकता नहीं होती है तो पौधा इन रंध्रों को बंद कर लेता है । रंध्रों का खुलना व बंद होना द्वार कोशिकाओं का कार्य है । द्वार कोशिकाऐं में जब जल अंदर प्रवेश करता है तो वे फूल जाती है और रंध्र का छिद्र खुल जाता है । इसी प्रकार जब द्वार कोशिकाऐं सिकुड़ती है तो छिद्र बंद हो जाता है ।

क्लोरोप्लास्ट(हरित लवक)- हरे रंग के बिंदूवत्त कोशिकांग जिनमें क्लोरोफिल होता है उन्हें क्लोरोप्लास्ट कहते है । ये प्रकाश संश्लेषण की क्रिया में सहायक होते है ।

⦁ मानव पाचन तंत्र-

पाचन-  वह प्रक्रिया जिसके द्वारा जटिल भोज्य पदार्थों को सरल अवशोषण योग्य भोज्य पदार्थों में बदला जाता है ताकि वे शरीर द्वारा उपयोग में लाए जा सके , पाचन कहलाती है ।

वह अंगतंत्र जो पाचन क्रिया से संबंधित होता है , पाचन तंत्र कहलाता है । इसे दो भागों में बांटते है –
1. आहारनाल 2. पाचन ग्रंथिया

1. आहारनाल- मनुष्य की आहारनाल पूर्ण होती है । यह मुँह से गुदा तक विस्तारित एक नली के समान होती है । इसे निम्न भागों में बांटते है-

i. मुँह – मुँह में दांत भोजन को छोटे-छोटे कणों में तोड़ते है और जीह्वा लार की मदद से भोजन को अच्छी तरह मिलाती है एवं भोजन को लसलसा बनाती है । यहाँ लार में उपस्थित एंजाइम लार एमाइलेस या टायलिन मंड या स्टार्च कणों को शर्करा में बदल देते है ।

ii. ग्रसनी-  मुँख गुहा के नीचे ग्रसनी होती है । ग्रसनी एक ऐसा स्थान है जहाँ श्वसन तंत्र तथा पाचन तंत्र दोनों खुलते है । यहाँ कोई पाचन नहीं होता है ।

iii. ग्रसिका(इसोफेगस) – इसमें क्रमांकुंचन गति पायी जाती है ,जिसके द्वारा भोजन आमाशय में पहुँचता है । ग्रसिका में कोई पाचन नहीं होता है ।

iv. आमाशय-  भोजन के आने पर आमाशय फैल जाता है ।और जठर ग्रंथियों के द्वारा जठर रस भोजन में मिलाए जाते है व भोजन को अच्छी तरह मिश्रित किया जाता है । जठर ग्रथियाँ हाइड्रोक्लोरिक अम्ल (HCl) , पेप्सिनोजन व प्रोरेनिन आदि का स्त्रावण करती है । HCl अम्लीय माध्यम तैयार करता है व पेप्सिनोजन को सक्रिय पेप्सिन में और प्रोरेनिन को सक्रिय रेनिन में बदलता है । पेप्सिन प्रोटीन का पाचन करता है व रेनिन दूध में उपस्थित में प्रोटीन केसीन का पाचन करता है ।

v. क्षुद्रांत्र(छोटी आंत्र)   क्षुद्रांत्र आहारनाल का सबसे लंबा भाग है । इसकी लंबाई लगभग 5-6 मीटर होती है । आमाशय से भोजन क्षुद्रांत्र में प्रवेश करता है । क्षुद्रांत्र में आए हुए भोजन में अग्नाशयी रस व पित्त रस मिलाए जाते है । पित्त रस भोजन को क्षारीय बनाते है ताकि अग्नाशयी रस उस पर क्रिया कर सके । इसके अलावा पित्त रस वसा को छोटी-छोटी गोलिकाओं में तोड़ देते है ताकि वसा का पाचन लाइपेज एंजाइम की सहायता से सरलतापूर्वक हो सके । इस क्रिया को वसा का इमल्सीकरण या पायसीकरण कहते है ।
क्षुद्रांत्र के द्वारा भी स्त्रावित एंजाइम भी भोजन में मिलाए जाते है जो प्रोटीन को अमीनों अम्लों में ,जटिल कार्बोहाइड्रेट को ग्लूकोज में और वसा को वसा अम्ल व ग्लिसरोल में पाचित कर देते है । इन पाचित पदार्थों को क्षुद्रांत्र की भित्ति के द्वारा अवशोषित कर लिया जाता है । क्षुद्रांत्र के आंतरिक अस्तर पर अनेक अंगुली के समान प्रवर्ध होते है , जिन्हें दीर्घरोम कहते है । ये अवशोषण का सतही क्षेत्रफल बढ़ाते है ।
दीर्घरोमों में रूधिर वाहिकाऐं अधिसंख्य में होती है, जो अवशोषित भोजन को शरीर की प्रत्येक कोशिका में पहुँचाती है । यहाँ इसका उपयोग ऊर्जा प्राप्त करने में , नए उत्तकों के निर्माण में और पुराने उत्तको की मरम्मत में होता है ।

vi. बृहद्रांत्र(बड़ी आंत्र) – बिना पचा हुआ भोजन बृहद्रांत्र में भेज दिया जाता है जहाँ अधिसंख्य दीर्घरोम इसमें उपस्थित जल का अवशोषण कर लेते है । शेष पदार्थ गुदा द्वार द्वारा शरीर के बाहर मल के रूप में त्याग दिया जाता है, इस क्रिया को बहिःक्षेपण कहते है ।

 

Chapter-1 Chemical Reactions and Equations

10th Class ncert/cbse science quiz on chemistry in Hindi

Open chat
1
Hi, How can I help you?