class 10 NCERT Science chapter-15 text book question and answer part-1//Our Environment

अध्याय-15
हमारा पर्यावरण

प्रश्न-1. निम्न में से कौन से समूह में अजैव निम्नीकरणीय पदार्थ है –
अ) घास , पुष्प तथा चमड़ा
ब) काँच, पोलीथीन तथा प्लास्टिक
स) फलों के छिलके ,केक एंव नींबू का रस
द) केक, लकड़ी एंव घास
उत्तर – ब) काँच, पोलीथीन तथा प्लास्टिक
स्पष्टीकरण – अजैव निम्नीकरणीय पदार्थ (Non-biodegradable substance) – वे पदार्थ जो जैविक प्रक्रम द्वारा अपघटित नहीं होते है , अजैव निम्नीकरणीय पदार्थ कहलाते है । डी.डी.टी. , काँच, पोलीथीन तथा प्लास्टिक ।

प्रश्न-2. निम्न में से कौन आहार श्रंखला का निर्माण करता है –
अ) घास , गेहूँ तथा आम
ब) घास ,बकरी तथा मानव
स) बकरी ,गाय तथा हाथी
द) घास , मछली तथा बकरी
उत्तर – ब) घास ,बकरी तथा मानव
स्पष्टीकरण – आहार श्रृंखला या खाद्य श्रृंखला (food chain) – जीवों की एक ऐसी श्रृंखला जिसके अन्तर्गत खाने व खाए जाने की पुनरावृति द्वारा खाद्य उर्जा का प्रवाह होता है , उसे खाद्य श्रृंखला कहते है ।
उदाहरण – घास, टिड्डा , मेढ़क , साँप

प्रश्न-3. निम्न में से कौन पर्यावरण मित्र कहलाते है –
अ) बाजार जाते समय सामान के लिए कपड़े का थैला ले जाना
ब) कार्य समाप्त हो जाने पर लाइट (बल्ब) तथा पंखे का स्विच बंद करना ।
स) माँ द्वारा स्कूटर से विद्यालय छोड़ने के बजाय तुम्हारा विद्यालय तक पैदल जाना
द) उपरोक्त सभी
उत्तर – द) उपरोक्त सभी
स्पष्टीकरण – पर्यावरण मित्र – पर्यावरण के हित में कार्य करने वाले व्यक्तियों को पर्यावरण मित्र कहते है ।

NOTE- कृपया स्पष्टीकरण अपनी उत्तर-पुस्तिका में न लिखें । यह केवल समझाने की दृष्टि से लिखा गया है । 

प्रश्न-4. क्या होगा यदि हम एक पोषी स्तर के सभी जीवों को समाप्त कर दें (मार डालें) ।
उत्तर- यदि हम एक पोषी के सभी जीवों को समाप्त कर देंगे तो आहार श्रृंखला समाप्त हो जाएगी एवं पारिस्थितिक संतुलन प्रभावित होगा । प्रकृति में सभी श्रृंखलाएँ एक-दूसरे से जुड़ी हुई हैं ,यदि किसी भी एक कड़ी (पोषी स्तर) को समाप्त कर दें तो उससे पहले के पोषी स्तर में जीवों की संख्या अत्यधिक बढ़ जाएगी और उसके बाद के पोषी स्तर के लिए भोजन अनुपलब्ध हो जाने के कारण संख्या घट जाएगी । उदाहरण के लिए –
1. यदि शाकाहारियों को नष्ट करते हैं तो मांसाहारी अपना भोजन प्राप्त करने में असमर्थ होंगे तथा मृत्यु को प्राप्त हो जायेंगे ।
2. यदि पोषी स्तर के मांसाहारियों को समाप्त कर दें तो शाकाहारियों की संख्या इतनी ज्यादा बढ़ जाएगी कि वे जीवित रहने के लायक नहीं रहेंगे ।
3. यदि पोषी स्तर के उत्पादकों को समाप्त कर दें तो उस क्षेत्र के पोषक तत्वों का चक्र पूर्ण नहीं होगा ।

प्रश्न-5. क्या किसी पोषी स्तर के सभी सदस्यों को हटाने का प्रभाव भिन्न-भिन्न पोषी स्तरों के लिए अलग-अलग होगा । क्या किसी पोषी स्तर के जीवों को पारितंत्र को प्रभावित किए बिना हटाना संभव है ।
उत्तर- नहीं, यदि किसी पोषी स्तर के जीवों को नष्ट कर दिया जाए तो पहले तथा बाद के पोषी स्तरों में आने वाले सभी जीवधारी प्रभावित होंगे । सभी पोषी स्तर प्रारम्भ में तीव्रता से एवं बाद में धीमी गति से प्रभावित होंगे ।
किसी भी पोषी स्तर के जीवों को पारितंत्र को प्रभावित किए बिना हटाना संभव नहीं है क्योंकि प्रकृति की सभी खाद्य श्रृंखलाएँ एक-दूसरे से जुड़ी हुई हैं ।

प्रश्न-6. जैविक आवर्धन (Biological magnification) क्या है । क्या पारितंत्र के विभिन्न स्तरों पर जैविक आवर्धन का प्रभाव भी भिन्न-भिन्न होगा ।
उत्तर- जैविक आवर्धन (Biological magnification) – हानिकारक अजैव निम्नीकरणीय रसायनों जैसे -DDT आदि का खाद्य श्रृंखला में प्रवेश होना और फिर प्रत्येक उच्चतर पोषण स्तर पर उनका अधिकाधिक सांद्रण बढ़ते जाना ही जैव आवर्धन कहलाता है ।
हाँ ,विभिन्न पोषी स्तरों में रसायनों की सांद्रता भिन्न-भिन्न होती है । जैसे-जैसे आहार श्रृंखला की श्रेणी बढ़ती जाती है, रसायनों की सांद्रता में भी अधिकता होती है और उसका प्रभाव भी बढ़ता जाता है ।

प्रश्न-7. हमारे द्वारा उत्पादित अजैव निम्नीकरणीय कचरे से कौन-सी समस्याएँ उत्पन्न होती हैं ।
उत्तर- हमारे द्वारा उत्पादित अजैव निम्नीकरणीय कचरे से निम्न समस्याएँ उत्पन्न होती हैं –
1. अजैव निम्नीकरणीय कचरे से जल प्रदूषण उत्पन्न हो जाएगा एवं पानी पीने योग्य नहीं होगा ।
2. नदी-नालों में इस कचरे के कारण पानी का बहाव रूक जाएगा ।
3. प्लास्टिक की थैलियों को जानवरों द्वारा खा लिए जाने के फलस्वरूप उनकी मृत्यू हो जाएगी ।
4. मृदा कृषि योग्य नहीं रहेगी एवं भूमि उत्पादकता कम हो जाएगी ।
5. अजैव निम्नीकरणीय रसायनों का खाद्य श्रृंखला में प्रवेश करने पर विभिन्न बीमारियों से मानव ग्रसित हो जाएगा । उदाहरण के लिए गायों के दूध में और माँ के दूध में DDT का उच्च सांद्रण पाया गया जिससे नवजात शिशुओं में कई प्रकार के दोष पाए गए ।
6. पारितंत्र का संतुलन नष्ट हो जाएगा ।
7. इनके कारण वायु प्रदूषण उत्पन्न हो जाएगा एवं वायु जहरीली हो जाएगी ।

प्रश्न-8. यदि हमारे द्वारा उत्पादित सारा कचरा जैव निम्नीकरणीय हो तो क्या इनका हमारे पर्यावरण पर कोई प्रभाव नहीं पड़ेगा ।
उत्तर- यदि हमारे द्वारा उत्पादित सारा कचरा जैव निम्नीकरणीय हो तो इनका निपटान आसानी से हो जाएगा । जैव निम्नीकरणीय पदार्थ सरलता से सूक्ष्म जीवों द्वारा अपघटित कर दिए जाते हैं । यह अपशिष्ट लंबे समय तक नहीं रहते हैं । अतः इनका हानिकारक प्रभाव वातावरण पर पड़ता तो है लेकिन यह कुछ समय के लिए ही रहता है । ये पदार्थ लाभदायक पदार्थों में बदले जा सकते हैं तथा सरल पदार्थों में तोड़े जा सकते हैं । चूँकि इनके अपघटन से दुर्गन्ध एवं विषाक्त गैसें निकलती हैं ,इसलिए पर्यावरण पर इनका प्रभाव तो पड़ता है परन्तु वह केवल कुछ समय तक ही रहता है ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Open chat
1
Hi, How can I help you?