Chapter-14 – Source of Energy ,10th class ncert/cbse notes in Hindi part-2

अध्याय-14 कक्षा-10
ऊर्जा के स्रोत -part-2

⦁ जल विद्युत संयंत्र –

जल विद्युत संयंत्रों में संचित जल की स्थितिज ऊर्जा को विद्युत ऊर्जा में रूपांतरित किया जाता है । चूँकि ऐसे जल प्रपातों की संख्या बहुत कम है ,जिनका उपयोग स्थितिज ऊर्जा के स्रोत के रूप में किया जा सके । अतः जल विद्युत संयंत्रों को बांधों से संबंधित किया गया है । भारत में हमारी ऊर्जा की मांग के चौथाई भाग की पूर्ति जल विद्युत संयंत्रों के द्वारा की जाती है । विद्युत उत्पन्न करने के लिए नदियों के बहाव को रोककर बड़े जलाशयों में जल एकत्रित करने के लिए ऊँचे-ऊँचे बांध बनाए जाते है । इन जलाशय में जल संचित होता रहता है जिसके फलस्वरूप इनमें भरे जल का तल ऊँचा हो जाता है । और बांध के कपाट खोल दिए जाते है जिससे यह जल टरबाइनों के ब्ले़डों पर गिरता है जिससे टरबाइन के ब्लेड घूर्णन गति करते है । और जनित्र द्वारा विद्युत उत्पादन होता है ।

⦁ बायोगैस – इसे जैव गैस भी कहते है । यह अनेक गैसों का मिश्रण होती है जिसका मुख्य घटक मेथेन (CH4 ) होती है । चूँकि इस गैस को बनाने में उपयोग होने वाला आरंभिक पदार्थ मुख्यतः गोबर होता है ,इसलिए इसे गैस को गोबर गैस भी कहते है ।
बायोगैस का निर्माण – गोबर ,फसलों के कटने के पश्चात् बचे अपशिष्ट , सब्जियों के अपशिष्ट ,विभिन्न मृत पादप व वाहित मल आदि जब ऑक्सीजन की अनुपस्थिति में अपघटित होते है , तब गोबर गैस का निर्माण होता है ।

⦁ बायोगैस संयंत्र –

इसे गैस को एक संयंत्र में उत्पन्न किया जाता ,जिसे बायोगैस संयंत्र कहते है । इस संयंत्र में ईंटों से बनी गुंबद जैसी संरचना होती है । जैव गैस बनाने के लिए मिश्रण टंकी में गोबर तथा जल का एक गाढ़ा घोल ,जिसे कर्दम (slurry) कहते है ,बनााया जाता है । जहाँ से इसे संपाचित्र(digester) में डाल देते है । संपाचित्र चारों ओर से बंद एक कक्ष होता है ,जिसमें ऑक्सीजन नहीं होती है । अवायुवीय सूक्ष्मजीव जिन्हें जीवित रहने के लिए ऑक्सीजन की आवश्यकता नहीं होती है ,गोबर के जटिल यौगिकों का अपघटन कर देते है । अपघटन प्रक्रम पूरा होने पर मेथेन(CH4) ,कार्बनडाइ ऑक्साइड (CO2 ) , हाइड्रोजन ( H2) तथा हाइड्रोजन सल्फाइड(H2S) जैसी गैसे उत्पन्न होने में कुछ दिन लगते है । इन गैसों के मिश्रण को ही जैव गैस कहते है । जिसे संपाचित्र के ऊपरी बनी गैस टंकी में संचित किया जाता है । जैव गैस को गैस टंकी से उपयोग के लिए पाइपों द्वारा बाहर निकाल लिया जाता है ।
जैव गैस संयंत्र में शेष बची स्लरी को समय-समय पर संपाचित्र से बाहर निकालते है । इस स्लरी में नाइट्रोजन तथा फॉस्फोरस प्रचुर मात्रा में होते है । अतः यह एक उत्तम खाद के रूप में काम आती है ।
इस प्रकार जैव अपशिष्टों व वाहित मल के उपयोग द्वारा जैव गैस निर्मित करने से हमारे कई उद्देश्यों की पूर्ति हो जाती है ।
⦁ बायोगैस संयंत्र से लाभ (बायगैस के लाभ) –
1. बायोगैस का प्रयोग भोजन पकाने में व पानी को गर्म करने में किया जाता है ।
2. बायोगैस को जलाने पर धुँआ उत्पन्न नहीं होता है अतः इससे प्रदूषण नहीं होता है ।
3. यह जलने के बाद कोई भी अपशिष्ट पदार्थ शेष नहीं छोड़ती है ।
4. इसकी तापन क्षमता उच्च होती है । इसका प्रयोग प्रकाश स्रोत के रूप में किया जाता है ।
5. जैव मात्रा ऊर्जा का नवीकरणीय स्रोत है ।
6. बायोगैस संयंत्र में बची स्लरी उत्तम खाद के रूप में काम आती है । इस स्लरी में नाइट्रोजन व फॉस्फोरस प्रचुर मात्रा में होते है ।
7. बायोगैस ऊर्जा का अच्छा एवं सस्ता स्रोत है । इसमें 75% तक मेथेन गैस होती है ।
8. बायोगैस संयंत्र से जैव अपघट्य अपशिष्टों का निपटान किया जा सकता है ।

⦁ पवन ऊर्जा – पवन में निहित ऊर्जा को पवन ऊर्जा कहते है । इसका उपयोग पवन चक्कियों द्वारा यांत्रिक कार्यों को करने में किया जाता है ।
⦁ पवन चक्की वह युक्ति (या मशीन) जिसकी सहायता से पवन ऊर्जा को यांत्रिक ऊर्जा में परिवर्तित किया जाता है ,उसे पवन चक्की कहते है ।
पवन चक्की की रचना –

पवन चक्की की संरचना वस्तुतः किसी ऐसे विशाल विद्युत पंखे के समान होती है जिसे किसी दृढ़ आधार पर कुछ ऊँचाई पर खड़ा कर दिया जाता है ।
पवन चक्कियों के उपयोग –
1. पनन चक्की की पंखुड़ियो की घूर्णी गति का उपयोग कुँओं से जल खींचने में होता है ।
2. झील व नदियों में नाव को चलाने में ।
3. पवन चक्कियों से गेहूँ ,मक्का आदि पीसने में ।
4. आजकल पवन चक्की का उपयोग विद्युत उत्पन्न करने में भी किया जा रहा है ।

पवन चक्कीयों से विद्युत उत्पन्न करना – किसी विशाल क्षेत्र में बहुत सी पवन चक्कियाँ लगाई जाती है , इस क्षेत्र को पवन ऊर्जा फॉर्म कहते है । ये क्षेत्र उन स्थानों पर स्थापित किए जाते है जहाँ वर्ष के अधिकांश दिनों में तीव्र पवन चलती है । टरबाइन की आवश्यक चाल को बनाए रखने के लिए पवन की चाल 15 km/h से अधिक होनी चाहिए । जब पवन चक्की चलती है तो पवन चक्की की पंखुड़ियाँ घुमती है और जिससे टरबाईन के ब्लेड्स घूर्णन गति करते है ,जिससे विद्युत जनित्र द्वारा विद्युत का उत्पादन होता है ।

पवन-चक्की पर्यावरणीय हितैषी – पवन चक्कियाँ पर्यावरणीय हितैषी होती है क्योंकि इनसे पर्यावरण प्रदूषण नहीं होता है और पवन ऊर्जा नवीकरणीय ऊर्जा स्रोत है । इनसे किसी प्रकार के अपशिष्ट पदार्थ उत्पन्न नहीं होते है ।
पवन चक्की के उपयोग की सीमाएँ –
1. पवन ऊर्जा फॉर्म केवल उन्हीं स्थानों पर स्थापित किए जा सकते है जहाँ वर्ष के अधिकांश दिनों में तीव्र पवन चलती हो ।
2. टरबाइन की आवश्यक चाल को बनाए रखने के पवन की चाल 15 km/h से अधिक होनी चाहिए अन्यथा विद्युत का उत्पादन नहीं होगा ।
3. पवन चक्कीयों के दृढ़ आधार तथा पंखुड़ियाँ वायुमंडल में खुले होने के कारण अंधड़ ,चक्रवात,धूप ,वर्षा आदि प्राकृतिक थपेड़ो को सहन करते है अतः उनके लिए उच्च स्तर के रख-रखाव की आवश्यकता होती है ।

डेनमार्क को ‘पवनों का देश’ कहते है । देश की 25 प्रतिशत से भी अधिक विद्युत की आपूर्ति पवन चक्कियों के विशाल नेटवर्क द्वारा विद्युत उत्पन्न करके की जाती है । तमिलनाडू में कन्याकुमारी के समीप भारत का विशालत्तम पवन ऊर्जा फॉर्म स्थापित किया गया है । यह 380 MW विद्युत उत्पन्न करता है ।

One thought on “Chapter-14 – Source of Energy ,10th class ncert/cbse notes in Hindi part-2

  • September 22, 2019 at 6:13 pm
    Permalink

    I intended to put you one bit of observation to finally say thanks a lot again regarding the incredible information you’ve featured here. This is really wonderfully generous with people like you to offer publicly exactly what most of us could possibly have made available for an e-book to help make some profit for their own end, specifically now that you could possibly have done it if you ever decided. Those solutions likewise worked to be a good way to be certain that many people have a similar desire much like my personal own to see a lot more pertaining to this matter. I know there are many more pleasurable periods up front for individuals that check out your website.

Comments are closed.

Open chat
1
Hi, How can I help you?