विटामिन ,Vitamin part-2

2. जल में घुलनशील विटामिन-

जल में घुलनशील विटामिन निम्न है-

i) विटामिन-B1

अन्य नाम- थायमीन, Antineuritis factor, Heat labile factor

स्रोत- अनाज, फलियाँ, मांस, दूध, अण्डा, यकृत, यीस्ट

कार्य- शर्करा उपापचय व मस्तिष्क उत्तक के O2 (ऑक्सीजन) ग्रहण के लिए आवश्यक

कमी से होने वाले रोग-

अ) बेरी-बेरी – इसमें भूख की कमी ,कमजोरी , पेशियों की निष्क्रियता, सिरदर्द आदि होता है । पेशियों की निष्क्रियता से पक्षाघात हो जाता है । बेरी-बेरी रोग को पोलीन्यूराइटिस भी कहते है ।

ii) विटामिन-B2
अन्य नाम- विटामिन-G, Lactoflavin, Ovoflvin

स्रोत- अण्डे, दूध , यीस्ट, मांस, ताजा हरी सब्जियाँ

कार्य- उपापचय में सहायक । FMN व FAD का भाग । एमीनोएसिड, ऑक्सीडेज, जेन्थीन ऑक्सीडेज, साइटोक्रोम-C, रिडक्टेज का भाग

कमी से होने वाले रोग-
अ) चीलोसिस- इसमें मुख के किनारे व होठ का फट जाते है । इसे एन्ग्यूलर स्टोमेटाइटिस कहते है ।
ब) सिबोरिक डर्मेटाइटिस- इसमें त्वचा में मोम (Wax) एकत्रित हो जाता है ।
स) ग्लोसिटिस – इसमें जीव्हा बड़ी हो जाती है व उस पर सूजन आ जाती है ।

iii) विटामिन-B3
अन्य नाम- Pantothenic acid, Antidermititis factor, Liver filterate factor

स्रोत – यकृत, वृक्क, यीस्ट, गुड़, अण्डे, आलू, टमाटर

कार्य- यह कोएंजाइम-A (Co-A) का घटक होता है । यह उपापचय में सहायक होता है ।

कमी से होने वाले रोग-

इसकी कमी से तीन D रोग हो जाते है – डर्मेटाइटिस, डायरिया , डिमेंशन

iv) विटामिन-B5
अन्य नाम- Niacin, Pellagra, Preventing factor, Niotiamide

स्रोत- वृक्क, यकृत, दूध, यीस्ट, अण्डे , मूँगफली ।

कार्य- NAD व NADP का भाग

कमी से होने वाले रोग-
अ) पेलेग्रा- इस रोग में जीव्हा व त्वचा पर पपड़ियाँ पड़ जाती है ।

v) विटामिन-B6
अन्य नाम- Pyridoxin

स्रोत- यीस्ट, यकृत, वृक्क, मांस, मच्छली, ब्रैड, लेग्यूमिनस बीज

कार्य- यह कोएंजाइम-पायरीडॉक्साइल फॉस्फेट का घटक होता है । ट्रांसएमिनेशन व डिकार्बोक्सिलेशन के लिए आवश्यकहोता है । हीमोग्लोबिन संश्लेषण के लिए आवश्यक होता है ।

कमी से होने वाले रोग-

अ) एनिमिया- इसमें शरीर में रक्त की मात्रा कम हो जाती है ।

vi) विटामिन-H

अन्य नाम- विटामिन-B7 , Biotin, कोएंजाइम-R

स्रोत- यकृत, वृक्क, अण्डा, पीतक, दूध, सब्जियाँ, दालें

कार्य- यह कार्बोक्सिलेशन व डिकार्बोक्सिलेशन क्रियाओं से संबंधित होता है ।

कमी से होने वाले रोग-
डर्मेटाइटिस, एनोरेक्सिया, पेशीय दर्द, हाइपरऐस्थेसिया

vii) फोलिक अम्ल

स्रोत- वृक्क, यकृत, यीस्ट, मशरूम, हरी पत्तियाँ, गेहूँ, सोयाबीन, मटर, टमाटर, केला ।
कार्य- यह आहारनाल का संतुलन बनाने में सहायक होता है ।

कमी से होने वाले रोग-
इसकी कमी से मेगेलोब्लास्टिक एनिमिया, ल्यूकोनिया व आहारनाल असंतुलन हो जाता है ।

viii) विटामिन-B12

अन्य नाम- सायनोकोबालएमीन, Antipernicious anaemic factor

स्रोत- यकृत, अण्डे , मांस, सूअर का मांस, पेशियाँ , दूध

कार्य- यह वृद्धि कारक होता है । यह RBC निर्माण में सहायक होता है ।

कमी से होने वाले रोग-
इसकी कमी से ‘ पर्निसियस एनिमिया ‘ हो जाता है ।

ix) विटामिन-C

अन्य नाम- Ascorbic acid

स्रोत – टमाटर,नींबू , सब्जियाँ , सिट्रस फल आदि ।

कार्य – यह कोलेस्ट्रॉल का नियंत्रण करता है । यह घावों जल्दी भरने में सहायक होता है । यह आँखों के रोग ग्लूकोमा से आँखों का बचाव करता है । विटामिन-C की की मदद से हड्डियों को जोड़ने वाले कोलेजन पदार्थ, रक्त वाहिकाऐं, लिगामेंट्स , कार्टिलेज आदि अंगों का पूर्णरूप से निर्माण संभव है ।
कमी से होने वाले रोग-
अ) स्कर्वी – इसमें मसूड़ों से रक्त का स्राव होता रहता है ।
ब) विटामिन-C की कमी से घाव देर से भरते है ।

2 thoughts on “विटामिन ,Vitamin part-2

  • September 25, 2019 at 1:47 am
    Permalink

    Have you ever thought about including a little bit more than just your articles? I mean, what you say is fundamental and all. However imagine if you added some great visuals or video clips to give your posts more, “pop”! Your content is excellent but with images and videos, this site could certainly be one of the most beneficial in its niche. Fantastic blog!

  • September 25, 2019 at 11:50 am
    Permalink

    Some times its a pain in the ass to read what website owners wrote but this site is really user friendly! .

Comments are closed.

Open chat
1
Hi, How can I help you?