अध्याय-7 नियंत्रण एवं समन्वय,10th class ncert science chapter-7 part-2

तंत्रिका तंत्र-  जिस तंत्र के द्वारा विभिन्न अंगों का नियंत्रण और अंगों व वातावरण में सामंजस्य स्थापित होता है ,उसे तंत्रिका तंत्र कहते है । इससे प्रणी को वातावरण में होने वाले परिवर्तनों की जानकारी प्राप्त होती है । तंत्रिका कोशिका ,तंत्रिका तंत्र की संरचनात्मक व क्रियात्मक इकाई होती है । एककोशिकीय प्राणियों जैसे अमीबा आदि में तंत्रिका तंत्र नहीं पाया जाता है । बहुकोशिकीय प्राणियों जैसे हाइड्रा, तिलचट्टा, पक्षी, रेप्टाइल्स आदि में तंत्रिका तंत्र पाया जाता है । मनुष्य में सुविकसित तंत्रिका तंत्र पाया जाता है ।
इसे दो भागों में बाँटा गया है –
1. केन्द्रीय तंत्रिका तत्र(CNS = Central nervous system) 2. परिधीय तंत्रिका तंत्र(PNS = Peripheral nervous system )
1. केन्द्रीय तंत्रिका तत्र- यह शरीर की लम्बवत् रेखा पर स्थित होता है । इसके अन्तर्गत मस्तिष्क व मेरूरज्जु आते है ।
2. परिधीय तंत्रिका तंत्र- इसके अन्तर्गत केन्द्रीय तंत्रिका तंत्र से निकलने वाली व लौटने वाली तंत्रिकाऐं सम्मलित होती है । जो शरीर की परिधि में पायी जाती है । इसमें दो प्रकार के न्यूरॉन ,संवेदी न्यूरॉन/अभिवाही न्यूरॉन (ये आवेगों को प्रभावी अंग से CNS तक पहुँचाते है ।) व चालक न्यूरॉन/अपवाही न्यूरॉन (ये संकेतों को CNS से प्रभावी अंग तक पहुँचाते है ।) ,पाए जाते है ।
परिधीय तंत्रिका तंत्र को पुनः दो भागों में बाँटा जा सकता है –
I) कायिक तंत्रिका तंत्र(Somatic nervous system)- इसमें न्यूरॉन का वितरण कंकालीय पेशीयों को होता है ।
II)स्वायत्त तंत्रिका तंत्र(Autonomous nervous system = ANS)- इसमें न्यूरॉन का वितरण चिकनी पेशियों और आंतरांगों तक होता है । इस तंत्र को दो भागों में बाँटा गया है –
i) अनुकंपी तंत्रिका तंत्र(Sympethetic nervous system)- यह ह्रदय स्पंदन दर व रक्त दाब को बढ़ाता है ।
ii) परानुकंपी तंत्रिका तंत्र(Parasympethetic nervous system)- यह ह्रदय स्पंदन दर व रक्त दाब को कम करता है ।

जंतुओं की अंतः स्त्रावी ग्रथियाँ व उनसे स्त्रावित होने वाले हार्मोन-


I. पीयूष ग्रंथि- इसे मास्टर ग्रंथि भी कहते है । इसका आकार मटर के दाने के समान होता है । इससे स्त्रावित वृद्धि हार्मोन ,शारीरिक वृद्धि के लिए आवश्यक होता है ।
II. पीनियल ग्रंथि – इससे मिलेटॉनिन हार्मोन स्त्रावित होता है । यह ताप नियमन , त्वचा के रंग को हल्का करना आदि में सहायक होता है ।
III. हाइपोथैलेमस – इससे मुक्ति कारक, संदमक कारक , सोमेटोस्टेटिन व हार्मोन्स(ADH व ऑक्सीटोसिन) आदि स्त्रावित होते है । यह ताप नियमन करता है ।
IV. थायरॉइड(अवटु) ग्रंथि – इससे थायरॉक्सिन हार्मोन स्त्रावित होता है ।इस हार्मोन के निर्माण के आयोडीन की आवश्यकता होती है । यह हार्मोन कार्बोहाइड्रेट, प्रोटीन व वसा आदि के उपापचय का नियंत्रण करता है ।

आहार में आयोडीन की कमी होने से हम घेंघा या गॉयटर से ग्रसित हो सकते है, जिसमें गर्दन फूल जाती है ।

यदि बाल्यावस्था में थायरॉक्सीन हार्मोन की कमी हो जाये तो बोनापन हो सकता है जिसे क्रेटेनिज्म कहते है ।

V. पैराथायरॉइड ग्रंथि – इससे PTH या पैराथारमोन या कोलिप्स हार्मोन स्त्रावित होता है । यह रक्त में Ca++ के स्तर को बढ़ाता है ,अतः इसे हाइपरकैल्सिमिक हार्मोन भी कहते है ।
VI. थाइमस ग्रंथि – इससे थाइमोसिन हार्मोन स्त्रावित होता है । यह लिम्फोसाइट्स के परिपक्वन में सहायक होता है ।
VII. एड्रीनल ग्रंथि(अधिवृक्क ग्रंथि) – इससे एड्रीनलीन(एपिनेफ्रिन) हार्मोन स्त्रावित होता है । इसके कारण ह्रदय की धड़कन बढ़ जाती है ताकि हमारी पेशियों को ऑक्सीजन की आपूर्ति अधिक हो सके । इस हार्मोन को “करो या मरो” हार्मोन या “फ्लाइट हार्मोन” भी कहते है ।
VIII. अग्नाशय – इसमें उपस्थित “लैंगरहैंस के द्वीप” समूह इंसुलिन व ग्लूकेगॉन हार्मोन स्त्रावित करते है । इंसुलिन रक्त में ग्लूकोज(शर्करा) के स्तर को कम कर करता है जबकि ग्लूकेगॉन ग्लूकोज के स्तर को रक्त में बढ़ाता है ।
IX. वृषण – ये नर में प्राथमिक लैंगिक अंग है । इससे लैंगिक हार्मोन टेस्टोस्टेरॉन हार्मोन स्त्रावित होता है , यह द्वितीयक लैंगिक लक्षणों को प्रकट करता है ।
X. अण्डाशय – ये मादा में प्राथमिक लैंगिक अंग है । इससे लैंगिक हार्मोन एस्ट्रोजन स्त्रावित होता है । यह द्वितीयक लैंगिक लक्षणों को प्रकट करता है ।

⦁   पादप हार्मोन- पादप हार्मोन पादपों में वृद्धि, विकास तथा पर्यावरण के प्रति अनुक्रिया के समन्वय में सहायता करते है । ये हार्मोन क्रिया क्षेत्र तक साधारण विसरण विधि द्वारा पहुँच जाते है । पादप हार्मोन को दो भागों में बाँटा गया है –

1. पादप वृद्धि प्रेरित हार्मोन- ये सामान्यतः पादप की वृद्धि से संबंधित होते है । इसके अन्तर्गत निम्न हार्मोन आते है –
I) ऑक्सीन- इसका संश्लेषण तने व जड़ के अग्रस्थ (टीप) भाग पर होता है । यह तने व जड़ की लंबाई में वृद्धि करता है ।
II) जिब्बेरेलिन- यह भी तने की लंबाई में वृद्धि करता है ।
III) साइटोकाइनिन– यह कोशिका विभाजन को प्रेरित करता है अतः यह उन क्षेत्रों में अधिक सांद्रता में पाया जाता है । जहाँ कोशिका विभाजन तीव्र होता है ।
2. पादप वृद्धि संदमक हार्मोन – यह हार्मोन पादप वृद्धि को संदमित करते है । इसमें निम्न हार्मोन आते है –
I) एब्सिसिक अम्ल- इसके कारण पत्तियों का विलगित व मुरझा जाती है । यह बीज आदि की प्रसुप्ति (डोरमेंसी) में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है ।
पादपों में समन्वय-
पादप भी विभिन्न प्रकार से समन्वय प्रदर्शित करते है ।

1. उद्दीपनों के प्रति अनुक्रिया-
पादप भी उद्दीपनों के प्रति अनुक्रिया दर्शाते है ,जैसे छुई-मुई का पादप । अगर इस पादप को कोई छूता है तो यह अपनी पत्तियों को मोड़ लेता है और उद्दीपन के प्रति अनुक्रिया दर्शाता है । इसी कारण इस पादप को touch me not पादप भी कहते है ।
इस अनुक्रिया में विभिन्न प्रकार के वैद्युत रसायन सहायक होते है । लेकिन पादपों में सूचनाओं के संचरण के लिए जन्तुओं के समान विशिष्टीकृत उत्तक नहीं पाए जाते है ।
2. वृद्धि के कारण गति-
इसे मुख्यतः निम्न प्रकार से समझ सकते है ।
i) प्रकाशानुवर्तन गति –
अधिकांशतः पादपों में तना वाला भाग प्रकाश की दिशा में गति करता है ,इसे ही प्रकाशानुवर्तन गति कहते है । इसे तने की धनात्मक प्रकाशानुवर्तन गति भी कहते है ।
जबकी जड़े प्रकाश की विपरित दिशा में गति करती है अतः इसे ऋणात्मक प्रकाशानुवर्तन गति कहते है ।
ii) गुरूत्वानुवर्तन गति
अधिकांशतः पादपों में जड़े गुरूत्वानुकर्षण बल की ओर गति करती है , इसे ही गुरूत्वानुवर्तन गति कहते है । इसे जड़ की धनात्मक गुरूत्वानुवर्तन गति भी कहते है ।
जबकी तना गुरूत्वानुकर्षण बल के विपरित दिशा में गति करता है इसी कारण इसे ऋणात्मक गुरूत्वानुवर्तन गति कहते है ।

इसी प्रकार पादपों में रसायनानुवर्तन गति(पादप भाग की रसायनों के प्रति गति) , जलानुवर्तन गति (पादप भाग की जल के प्रति गति) आदि पाई जाती है ।

4 thoughts on “अध्याय-7 नियंत्रण एवं समन्वय,10th class ncert science chapter-7 part-2

  • November 29, 2018 at 8:12 pm
    Permalink

    Most helpful….

  • September 25, 2019 at 12:12 pm
    Permalink

    Wohh exactly what I was looking for, appreciate it for posting.

  • October 9, 2019 at 12:21 pm
    Permalink

    Thanks a lot for providing individuals with such a breathtaking possiblity to read critical reviews from here. It’s always very pleasing and as well , stuffed with a great time for me personally and my office fellow workers to visit your website really 3 times every week to learn the newest guidance you have. And definitely, I’m just at all times amazed with the awesome creative ideas served by you. Selected two ideas in this posting are truly the finest we have had.

Comments are closed.

Open chat
1
Hi, How can I help you?