जीवाणु जनित रोग(Bacterial diseases)

जीवाणु जनित रोग(Bacterial diseases)-

जीवाणु (बैक्टीरिया):

बैक्टीरिया जिन्हें हम हिंदी में जीवाणु कहते है, छोटे-छोटे एककोशिकीय जीव हैं, जो पूरी पृथ्वी पर हर जगह पाए जाते है। वे जीव जिन्हें मनुष्य नंगी आंखों से नही देख सकता तथा जिन्हें देखने के लिए सूक्ष्मदर्शी यंत्र की आवश्यकता पड़ता है, उन्हें सूक्ष्मजीव (माइक्रोऑर्गैनिज्म) कहते हैं। सूक्ष्मजीवों का संसार अत्यन्त विविधता से बह्रा हुआ है। सूक्ष्मजीवों के अन्तर्गत सभी जीवाणु (बैक्टीरिया) और आर्किया तथा लगभग सभी प्रोटोजोआ के अलावा कुछ कवक (फंगी), शैवाल (एल्गी), और चक्रधर (रॉटिफर) आदि जीव आते हैं।

सूक्ष्मजीव सर्वव्यापी होते हैं। यह मृदा, जल, वायु, हमारे शरीर के अंदर तथा अन्य प्रकार के प्राणियों तथा पादपों में पाए जाते हैं। जहाँ किसी प्रकार जीवन संभव नहीं है जैसे गीज़र के भीतर गहराई तक, (तापीय चिमनी) जहाँ ताप 100 डिग्री सेल्सियस तक बढ़ा हुआ रहता है, मृदा में गहराई तक, बर्फ की पर्तों के कई मीटर नीचे तथा उच्च अम्लीय पर्यावरण जैसे स्थानों पर भी पाए जाते हैं।

जीवाणु (बैक्टीरिया) से होने वाले रोग, लक्षण एवं प्रभावित अंगों की सूची: (Human diseases caused by Bacteria in Hindi)

क्र.सं रोग   रोगजनक लक्ष्य अंग लक्षण
1  रोहिणी(Diptheria) कोरीने बैक्टिरियम डिप्थेरी श्वसन नली दम घटना
2  धनु स्तंभ( Tetanus) क्लोस्ट्रीडियम टिटैनी तंत्रिका तंत्र व पेशिया शरीर में जकड़न,झटके लगना,जबड़े बंद होना
3 भोजन विषाक्तता(Botulism) क्लोस्ट्रीडियम बॉट्यूलाइनम श्वसन अंग सांस लेने में पीड़ा,वमन ,दोहरी दृष्टि
4  हैजा(Cholera) विब्रियो कोलेरी आहारनाल निर्जलीकरण,उल्टी, दस्त
5 अतिसार(Dirrhoea) शिजेला डिसेन्टरी छोटी आंत दस्त
6 मियादी बुखार(Typhoid fever) साल मोनेला टाइफी आंत ज्वर,कमजोरी, अति होने पर आंत में छेद
7 गोनेरिया(Gonorrhea) नीसेरिया गोनेरिया मूत्रोजनन मार्ग मूत्रोजनन मार्ग में सूजन,कभी-2 संतान हीनता
8 मस्तिष्क ज्वर(meningitis) नीसेरिया मेनिनजाइटिस मस्तिष्कावरण सिर दर्द,बुखार,कंपकपी,रक्त स्राव,शीघ्र ही मृत्यु
9 तपेदिक(Tuberculosis) माइक्रोबैक्टिरियम  ट्यूबरकुलोसिस शरीर के कई अंग ,मुख्यत: फेफड़े दुर्बलता, लगातार खांसी
10  कुष्ठ रोग(Leprosy) माइक्रोबैक्टिरियम लैप्री त्वचा व तंत्रिकाऐं त्वचा पर गांठे,घाव,रंगहीनता प्रकट होना
11  प्लेग(plague) परसिनिया पेस्टिस R.B.C. ,फेफड़े तीव्र ज्वर, सिर दर्द
12 काली या कुकर खांसी (Whooping cough) हेमोफिलिस परटुसिस श्वसन तंत्र सामान्यत: बच्चों में, निरन्तर खांसी व वमन
13 निमोनिया(Pneuomonia) डिप्लोकोकस न्यूमोनी फेफड़े तीव्र ज्वर,फेफड़ों में पानी भरना
14  सिफलिस(Syphlis) ट्रेपोनेमा पेलिडियम मस्तिष्क व जनन अंग लसिका गांठों का बड़ा होना,त्वचा पर लाल धब्बे बनना

10 thoughts on “जीवाणु जनित रोग(Bacterial diseases)

Comments are closed.

Open chat
1
Hi, How can I help you?