Specific cells and their functions in animals

1. कोएनोसाइट्स – यह कोशिकाएँ फाइलम पोरीफेरा में पाई जाती है । इन्हें कोलर कोशिकाएँ भी कहते है । इसमें एक कशाभ पाया जाता है । यह कोएनोडर्म परत में पायी जाती है ।
2. स्क्लेरोब्लास्ट – फाइलम पोरीफेरा के सदस्यों की मिसेनकाइम में पायी जाती है । इनके द्वारा कंटिकाओं का निर्माण होता है ।
3. दंश कोशिकाएँ – दंश कोशिकाओं का पाया जाना सीलेण्टरेटा का विशिष्ट लक्षण है । यह सुरक्षा व आक्रमण का का कार्य करती है ।
4. अन्तराली कोशिकाएँ(Interstitial cells) – यह कोशिकाएँ सीलेण्टरेटा में पायी जाती है व पूर्णशक्त (Totipotent) प्रकार की होती है । यह पुनुरूदभवन ,वृद्धि आदि का कार्य करती है ।
5. लेसो कोशिकाएँ – यह कोशिकाएँ टीनोफोरा संघ का विशिष्ट लक्षण है । इन्हें कोलोब्लास्ट कोशिकाएँ भी कहा जाता है । यह भोजन ग्रहण करने में सहायक है ।
6. ज्वाला कोशिकाएँ(Flame cells) – यह संघ प्लेटीहैल्मीन्थीज का विशिष्ट लक्षण है । यह उत्सर्जी कोशिकाएँ है ।
7. स्यूडोसीलोसाइट्स – ऐस्केरिस की मिथ्या देहगुहा में 5 स्यूडोसीलोसाइट्स कोशिकाएँ पाई जाती है । यह कोसिकाएँ दैत्याकार होती है । सबसे बड़ी स्यूडोसीलोसाइट्स ग्रसनी (Pharynx) के पृष्ठ पर पायी जाती है ।
8. क्लोरेगोगन कोसिकाएँ – यह तारे के समान कोशिकाएँ है जो फेरेटिमा के सीलोमिक द्रव में पायी जाती है । यह आयोडीन के साथ भूरा रंग प्रदान करती है । यह उत्सर्जन से संबंधित है । इस कोशिका की तुलना यकृत कोशिका से की जाती है ।
9. नेफ्रोसाइट्स – यह कॉकरोच के ह्रदय के चारों ओर पायी जाती है । यह उत्सर्जी कोशिकाएँ है ।
10. पीताणु कोशिकाएँ – यह कीटों की एपिडर्मिस में पायी जाती है । यह मोम का स्त्रावण करती है ।
11. ट्राइकोजन कोशिकाएँ – कीटों की एपिडर्मिस में पायी जाती है । इनके द्वारा सीटी , शूक या रोम का स्त्रावण होता है ।
12. टार्मोजन कोशिका – यह कीटों की ट्राइकोजन कोशिका के चारों ओर गर्तिका या सॉकेट बनाती है ।
13. कांचभ कोशिकाएँ – यह संयुक्त नेत्र में क्रिस्टलाभ शंकू के चारों ओर पायी जाती है । इनके द्वारा क्रिस्टलाभ शंकू का स्त्रावण होता है ।
14. कोर्नियोजन कोशिका – यह कीटों के संयुक्त नेत्र की कोशिका है । यह लैंस का स्त्रावण करती है । प्रत्येक ओमेटिडिया में इनकी संख्या दो होती है ।
15. दृष्टि पटल कोशिकाएँ – यह कोशिकाएँ नेत्र में रेब्डोम को घेरे रहती है । इनकी संख्या 7 होती है । इन कोशिकाओं को संयुक्त रूप से रेटीन्यूले कहते है ।
16. ट्रोफोसाइट्स – यह कीटों के वसा पिण्डक में पाये जाते है । इसमे खाद्य पदार्थ संग्रहित किए जोते है ।
17. माइसिटोसाइट्स – इसमें सहजीवी बैक्टिरिया पाए जाते है । यह वसा पिण्डक में पायी जाती है ।
18. यूरेट कोशिकाएँ – यह वसा पिण्डक में पायी जाती है । यह यूरिक अम्ल का संश्लेषण करती है ।
19. क्रोमोफिल कोशिकाएँ – यह केंचुएँ की ग्रसनी में फेरिंजियल मास में पायी जाती है । यह लार का स्त्रावण करती है ।

 

Specific cells and their functions ,विशिष्ट कोशिकाएँ व उनके कार्य part-2

7 thoughts on “Specific cells and their functions in animals

  • July 5, 2019 at 9:07 pm
    Permalink

    Another thing I have really noticed is always that for many people, poor credit is the response to circumstances beyond their control. One example is they may happen to be saddled by having an illness and because of this they have substantial bills going to collections. It can be due to a occupation loss or maybe the inability to do the job. Sometimes breakup can really send the financial situation in an opposite direction. Thanks sharing your ideas on this weblog.

  • July 5, 2019 at 9:25 pm
    Permalink

    I loved as much as you’ll receive carried out right here. The sketch is attractive, your authored material stylish. nonetheless, you command get got an nervousness over that you wish be delivering the following. unwell unquestionably come more formerly again as exactly the same nearly very often inside case you shield this increase.

  • September 4, 2019 at 11:47 pm
    Permalink

    I do not even understand how I stopped up here, however I believed this submit was great. I don’t realize who you might be but definitely you’re going to a famous blogger when you are not already 😉 Cheers!

  • September 11, 2019 at 12:52 am
    Permalink

    With havin so much content and articles do you ever run into any problems of plagorism or copyright violation? My website has a lot of unique content I’ve either authored myself or outsourced but it appears a lot of it is popping it up all over the internet without my permission. Do you know any solutions to help protect against content from being ripped off? I’d really appreciate it.

  • September 25, 2019 at 10:54 am
    Permalink

    I am not very good with English but I come up this rattling easygoing to read .

  • September 26, 2019 at 9:55 am
    Permalink

    Spot on with this write-up, I actually think this website needs far more consideration. I抣l in all probability be again to read much more, thanks for that info.

  • September 26, 2019 at 2:28 pm
    Permalink

    I have recently started a website, the info you offer on this website has helped me greatly. Thank you for all of your time & work.

Comments are closed.

Open chat
1
Hi, How can I help you?