अध्याय-11 मानव नैत्र तथा रंग-बिरंगा संसार, 10th class ncert science chapter-11 part-1

⦁ मानव नैत्र-
मानव नैत्र एक केमरे की भांति होता है । नैत्र का लैंस एक प्रकाश सुग्राही परदे पर या दृष्टिपटल पटल(रेटिना) पर प्रतिबिंब बनाता है । इसके निम्न भाग होते है –

1. कॉर्निया-
इसे स्वछ्चमंडल भी कहते है । यह पारदर्शी झिल्ली होती है ,जिसमें से प्रकाश नेत्र में प्रवेश करता है । नेत्र में प्रवेश करने वाली अधिकांश प्रकाश किरणों का अपवर्तन कॉर्निया के बाहरी पृष्ठ पर हो जाता है । कॉर्निया में रक्त कोशिकाएँ नहीं होती है ,इसी कारण इसका प्रत्यारोपण सर्वाधिक सरल है ।
2. जल द्रव-
कॉर्निया के पीछे एक छोटा कोष्ठ होता है जिसमें पारदर्शी द्रव भरा होता है । इसे जल द्रव कहते है ।
3. काचाभ द्रव-
लैंस के पीछे एक बड़ा कोष्ठ होता है जिसे विट्रस चैम्बर(कोष्ठ) कहते है , जिसमें भरा द्रव काचाभ द्रव कहलाता है ।
4. परितारिका( आइरिस)-
इसे आइरिस भी कहते है । इसके बीच में एक छोटा सा छिद्र होता है जिसे पुतली(प्युपिल अथवा नेत्र तारा) कहते है । पुतली आवश्यकता अनुसार छोटी या बड़ी होती रहती है । अधिक प्रकाश पड़ने पर आइरिस फैल जाती है तथा पुतली छोटी हो जाती है ।

कम प्रकाश पड़ने पर आइरिस सिकुड़ जाती है तथा पुतली बड़ी हो जाती है । इस प्रकार पुतली नेत्र में प्रवेश करने वाली प्रकाश की मात्रा का नियंत्रण करती है ।

5. नेत्र लैंस-
नेत्र लैंस सिलियरी (पक्ष्माभी) मांस पेशियों की सहायता से लटका रहता है । यह क्रिस्टलीय तथा पारदर्शी होता है । यह केवल विभिन्न दूरियों पर रखी वस्तुओं को रेटिना पर फोकसित करने के लिए आवश्यक फोकस दूरी में सूक्ष्म समायोजन करता है । यह रेटिना पर किसी वस्तु का उल्टा तथा वास्तविक प्रतिबिंब बनाता है ।
6. दृष्टिपटल(रेटिना)-
इसे रेटिना भी कहते है । इसमें उपस्थित प्रकाश सुग्राही कोशिकाएँ प्रदीप्त होने पर सक्रिय हो जाती है और विद्युत सिग्नल उत्पन्न करती है । ये सिग्नल दृक तंत्रिका के द्वारा मस्तिष्क तक पहुँचते है जहाँ इनका संसोधन होता है और उपयुक्त संकेत मिलने पर वस्तु दिखाई देती है ।
⦁ मानव नेत्र द्वारा प्रतिबिंब बनना-


नेत्र के सामने स्थित किसी वस्तु से चलने वाली प्रकाश की किरणें पहले जलीय द्रव ,फिर नेत्र लैंस तथा अन्त में काचाभ द्रव से अपवर्तित होकर रेटिना पर टकराती है । चूंकि मानव नेत्र एक उत्तल लैंस की भांति होता है । अतः रेटिना पर बनने वाला प्रतिबिंब उल्टा तथा वास्तविक होता है । इस प्रतिबिंब का संकेत दृक तंत्रिकाओं के द्वारा मस्तिष्क तक पहुँचता है और मस्तिष्क इनका संसोधन करता जिससे रेटिना पर बना प्रतिबिंब ,मस्तिष्क द्वारा अनुभव के आधार पर मानव को सीधा दिखाई पड़ता है ।
⦁ नेत्र की समंजन क्षमता(power of accomodation of eye)-
नेत्र की आवश्यकतानुसार ,नेत्र लैंस की फोकस दूरी बदलने की क्षमता को नेत्र की समंजन क्षमता कहते है ।
उम्र के साथ-साथ आँख की समंजन क्षमता घटती जाती है क्योंकि उम्र बढ़ने पर नेत्र की नम्यता (flexibility) कम हो जाती है ।

⦁ आँख का दूर बिंदू(F)-
आँख से अधिकतम दूरी पर स्थित वह बिंदू जिस पर रखी वस्तु को आँख स्पष्ट रूप से देख सके ,आँख का दूर बिंदू कहलाता है । स्वस्थ आँख के लिए यह बिंदू अनंत पर होता है ।
⦁ आँख का निकट बिंदू(N)-
आँख से न्यूनतम दूरी पर स्थित वह बिंदू जिस पर रखी वस्तु को आँख स्पष्ट रूप से देख सके ,आँख का निकट बिंदू कहलाता है । स्वस्थ आँख के लिए यह 25 cm. होता है । इस दूरी को स्पष्ट दृष्टि की न्यूनतम दूरी कहते है ।
⦁ दृष्टि विस्तार-
निकट बिंदू(N) तथा दूर बिंदू(F) के बीच की दूरी को ही दृष्टि विस्तार कहते है । स्वस्थ आँख के लिए यह 25 cm. से अनंत दूरी तक होता है ।
⦁ मोतियाबिंद(Cataract)-
कभी-कभी अधिक आयु के कुछ व्यक्तियों के नेत्र का क्रिस्टलीय लैंस दूधिया या धुँधला हो जाता है ,इस स्थिति को ही मोतियाबिंद कहते है । इसके कारण नेत्र की दृष्टि में कमी या पूर्ण रूप से क्षय हो जाता है । मोतियाबिंद की शल्य चिकित्सा के पश्चात दृष्टि का वापस लौटना संभव है ।
⦁ नेत्र दोष एवं उनके निवारण-
1. निकट दृष्टि दोष(Myopia)-
इस दोष में मनुष्य निकट की वस्तु को तो स्पष्ट देख लेता है परन्तु एक निश्चित बिन्दू के बाद, वह दूर की वस्तु को स्पष्ट नहीं देख पाता है अथवा दिखाई नहीं देती है ।
कारण- इस दोष के निम्न कारण है-
i) नेत्र लैंस की वक्रता बढ़ जाए जिससे उसकी फोकस दूरी कम हो जाती है ।
ii) नेत्र गोलक व्यास बढ़ जाए अथवा नेत्र गोलक लंबा हो जाए जिससे नेत्र लैंस व रेटिना के बीच की दूरी बढ़ जाती है ।
अतः अनन्त से चलने वाली प्रकाश की किरणें इस दोष युक्त नेत्र लैंस से अपवर्तित होकर रेटिना से पहले ही अथवा रेटिना के निकट किसी बिन्दू P पर फोकस हो जाती है अथवा मिलती है ।

इस दोष युक्त नेत्र का दूर बिन्दू (F) अनन्त से खिसकर कम दूरी पर स्थित हो जाता है ।

निवारण-
निकट दृष्टि दोष को दूर करने के लिए ऐसे अवत्तल लैंस युक्त चश्में को आँख के सामने रख देते है जिससे अनन्त से आने वाली प्रकाश किरणें अपवर्तन के पश्चात रेटिना पर फोकस हो जाती है अथवा रेटिना पर मिलती है । जिससे प्रतिबिंब रेटिना पर बनता है ।

2. दूर दृष्टि दोष (Hypermetropia)-
दूर दृष्टि दोष मानव नेत्र का वह दोष है जिसमें मनुष्य दूर स्थित वस्तु को तो स्पष्ट देख सकता है परन्तु उसे पास में रखी वस्तु स्पष्ट दिखाई नहीं देती है ।
कारण- इसके निम्न कारण है-
i) नेत्र लैंस की वक्रता कम हो जाए जिससे उसकी फोकस दूरी बढ़ जाती है ।
ii) नेत्र गोले का व्यास कम हो जाए अथवा नेत्र गोलक छोटा हो जाए जिससे नेत्र लैंस व रेटिना के बीच की दूरी कम हो जाती है ।
अतः निकट बिन्दू से चलने वाली प्रकाश किरणें इस दोष युक्त नेत्र लैंस से अपवर्तित होकर रेटिना के पश्चात किसी बिन्दू S पर मिलती है ।

इस दोष युक्त नेत्र का निकट बिन्दू (N) निकट से हटकर अधिक दूरी पर स्थित हो जाता है ।

निवारण-
दूर दृष्टि दोष को दूर करने के लिए ऐसे उत्तल लैंस युक्त चश्में को आँख के सामने रख देते है जिससे निकट से आने वाली प्रकाश किरणें अपवर्तन के पश्चात रेटिना पर फोकस हो जाती है अथवा रेटिना पर मिलती है । जिससे प्रतिबिंब रेटिना पर बनता है ।

3. जरा दृष्टि दोष-
आयु बढ़ने के साथ-साथ नेत्र की समंजन क्षमता कम हो जाती है जिसके परिणाम स्वरूप आँख का दूर बिन्दू नेत्र के निकट तथा आँख का निकट बिन्दू नेत्र से दूर विस्थापित हो जाता है । इसलिए नेत्र न तो अधिक दूरी वाली वस्तु को और न ही बहुत पास वाली वस्तुओं को स्पष्ट देख पाता है । नेत्र का यह दोष जरा दृष्टि दोष कहलाता है ।
कारण-
जरा दृष्टि दोष का मुख्य कारण आयु बढ़ने के साथ-साथ नेत्र की समंजन क्षमता कम हो जाना है ।
निवारण-
जरा दृष्टि दोष के निवारण के लिए व्यक्ति को द्विफोकस लैंसों से युक्त चश्में का प्रयोग करना पड़ता है । इन लैंसों का ऊपरी भाग अवत्तल लैंस की तरह तथा नीचे का भाग उत्तल लैंस की तरह कार्य करता है ।

3 thoughts on “अध्याय-11 मानव नैत्र तथा रंग-बिरंगा संसार, 10th class ncert science chapter-11 part-1

  • November 11, 2018 at 7:03 pm
    Permalink

    Generally I do not read article on blogs, but I would like to
    say that this write-up very compelled me to
    check out and do so! Your writing style has been amazed me.
    Thank you, quite great article.

  • November 11, 2018 at 7:04 pm
    Permalink

    Generally I do not read article on blogs, but I would like to say
    that this write-up very compelled me to check
    out and do so! Your writing style has been amazed me.

    Thank you, quite great article.

  • September 25, 2019 at 11:49 am
    Permalink

    I really like your blog.. very nice colors & theme. Did you make this website yourself or did you hire someone to do it for you? Plz answer back as I’m looking to design my own blog and would like to find out where u got this from. cheers

Comments are closed.

Open chat
1
Hi, How can I help you?